उत्तम पुरुषों का संग क्यों जरुरी माना गया हैं ?

वेदानुसार उत्तम पुरुष कौन है ?

उत्तम पुरुष कौन है किन मनुष्यों की संगति वा शिक्षा से मनुष्य को लाभ उठाना चाहिए उसका वर्णन-

सृष्टि के आरम्भ में ज्ञान और भाषा की उत्पत्ति क्यों और कैसे हुई ?

  1. जो आयु में वृद्ध अनुभवी, माता-पिता तथा गुरुजन है, उन सब को सेवा तथा संगति से लाभ तथा उन्नति की प्राप्ति होती है ।
  2. जो स्वाध्यायशील, वेदादि सत्य शास्त्रों का पठन-पाठन करने वाले है अथवा जो प्राकृतिक नियमानुसार जीवन व्यतीत करने वाले है ।
  3. जो सत्य ज्ञान को जीवन में धारण करने वाले है तथा लोकोपर में प्रसिद्धि को प्राप्त किया है ।
  4. जो ब्रह्म विद्या अध्यात्म विद्या के विस्तार एवं प्रसार में लगे हैं । जो अपनी तथा संसार की अध्यात्म उन्नति में तत्पर है
  5. जो मंत्र द्रष्टा है । वेद एवं जगत के रहस्यों को जानकार उनका लोकोपकार में सदुपयोग करते है ।

    सत्संग से मनुष्य जीवन कैसे बदल सकता है ?

  6. तो तपस्वी है अर्थात् जाति धर्म देश के लिए बड़े से बड़ा संकट अपने सिर पर लेने को उद्यत रहते है ।
  7. जो शूरवीर तथा पराक्रमी हैं । जो अपना बलिदान देने के लिए सदा अपने सर को हथेली पर रखकर शत्रुओं से लोहा लेते है । संग्राम में युद्ध करने वाले है ।
  8. जो ईश्वर भक्त है । ईश्वर की स्तुति, प्रार्थना, उपासना में लीन रहते हैं ।
  9. जो बड़े बड़े यज्ञ रचाते है और उन यज्ञों में सहस्त्रों रुपयों सत्पात्रों एवं विद्वानों को दक्षिणा देकर उनका सम्मान करते है ।
  10. जो सूर्य और चन्द्र के समान नियमबद्ध जीवन व्यतीत करने वाले है दानी, अहिंसक और ज्ञानी हैं
  11. उनकी सत्संगति तथा सेवा से मनुष्य लाभ तथा उन्नति को प्राप्त करते हैं ।
  12. ऐसे सदाचारी पुरुषों का संग सदा करना चाहिए तथा अन्यों से बहना चाहिए । वेद का आदेश है-

    उपांग क्या और कितने है यह विद्या का प्रमाण कैसे है ?

ये चित् पूर्वे ऋतजाता ऋता वृधा ।

ऋषीन् तपस्यतो यम तपोजाना गच्छतात् ।        (अथर्व १८-२-२५)

ये युध्यन्ते प्रधनेषु शूरासो ये तनू त्यज: ।     

ये वा सहस्त्र दक्षिणास्तांश्चिद्देवाऽपि  गच्छतात् ।  (अथर्व १८-२-२०)

स्वस्ति पन्थामनु चरेम सूर्या चन्द्रमसाविव ।

पुनर्ददताघ्नता जानता संगमेमहि ।।          (ऋ.मं. सू. ५ मं. १५)

सत्य बोलने वाले मनुष्यों को वेदों में क्या महत्व दिया गया है ?

हे यम नियम पालन करने वाले सदाचारी पुरुष तू वृद्धों, प्राकृतिक नियम पालन करने वालों, स्वाध्यायशिलों, आध्यात्म विद्या के प्रचारक ब्रह्म ज्ञानियों, देश सेवकों को प्राप्त हो उनकी संगति कर । जो शूरवीर है, जो बलिदान देने वाले हैं, अन्याय के विरुद्ध संग्राम करने वाले हैं, बड़े-बड़े यज्ञ रचा कर सैकड़ों और हजारों रुपयों की दान दक्षिणा देने वाले हैं उनके पास जा, उनकी संगति कर ।

ओउम् जाप से सभी समस्याओं का क्षण में समाधान

  • वैदिक धर्मी

Follow:- Thanks Bharat On YouTube Channel