स्मृति क्या है व मनुस्मृति कौन-से संविधान पर आधारित है ?

स्मृतियों की आवश्यकता क्यों

स्मृति :-

सृष्टि के आरंभ में ही मनवोत्पत्ति के पशत परमकारुणिक ऋषियों ने व्यक्ति की उन्नति, रहन-सहन, खान, पान, पारस्परिक आदान-प्रदान, और रक्षा आदि कार्यों की व्यवस्था के लिए नियम बनाये  वैयक्तिक उन्नति के लिए वेदोक्त आश्रम प्रणाली चालू की गई  सब के धर्म-कर्म और गुणों का निर्णय किया गया । राज्य शासन के लिए दण्ड व्यवस्था की गई ।

सत्य बोलने वाले मनुष्यों को वेदों में क्या महत्व दिया गया है ?

आदि सृष्टि में सब से पूर्व ब्रह्मा ने मानव संविधान बनाया और सर्व प्रथम इस को शासन रूप में मनु ने कार्य में व्यवह्त किया । उन नियमों का निर्देश करने वाली मनुस्मृति कहलाती है । मनुस्मृति एक प्रकार का सामाजिक और राजकीय विधि-विधान है । मनुस्मृति के नियमों को व्यवहार में लाने का समय सृष्टि का आरम्भ ही है । मनुस्मृति संसार भर में सर्वप्रथम कानून का पुस्तक है । इसमें सब नियम वेदोक्त और वेदानुकूल प्रतिपादित है ।

सृष्टि के आरम्भ में ज्ञान और भाषा की उत्पत्ति क्यों और कैसे हुई ?

आर्यावर्त में समयानुसार राज्य व्यवस्था बदलती रही है, तदनुकूल ही नियमों में परिवर्तन और परिशोधन होता रहा है । शाश्वतिक नियम एक समान ही आज तक चले आ रहे है । सामयिक आचार व्यवहार में परिवर्तन होता रहा है, जो कि आवश्यक था । इसी कारण मनुस्मृति के पश्चात याज्ञवल्क्य आदि अनेक स्मृतियाँ समय-समय पर प्रवृत हुई । मौलिक नियम सब में मनुस्मृति के ही रहे । इस समय 30 स्मृतियाँ उपलब्ध है, जिनके अवलोकन से तत्तत् समय की सामाजिक और राजकीय दशा पर अच्छा प्रकाश पड़ता है । याज्ञवल्क्य स्मृति पर अत्यंत प्रसिद्द टिका “मिताक्षरा” नाम से श्री विज्ञानेश्वर ने लिखी, जिसमें मनु से लेकर अर्वाचीन कांड तक सब धर्म-सूत्रकारों के समस्त राष्ट्र पर लागू रहे है । इसी मिताक्षरा का आधार मान कर अंग्रेजी काल में भारतीय दण्ड विधान तैयार किया गया था । मिताक्षरा में दायभाग पर बड़े व्यापक रूप में विचार किया गया है । सामाजिक और राजकीय व्यवस्था के ज्ञानार्थ इन स्मृति ग्रंथों का अवलोकन करना उत्तम है, परन्तु वेदानुकूल होने से मनुस्मृति ही सब में प्रमाणिक है । मनुस्मृति में भी बहुत प्रक्षिप्तांश जो पीछे मिला डाला गया है, वह त्याज्य है । जितना अंश वेदानुकूल है वाही ग्राह्य हैं, शेष नहीं ।

वेद भाष्य कौन से है और किस भाष्यकार के उत्तम भाष्य है ?

कुछ स्मृति के नाम इस प्रकार है :-

मनु, याज्ञवल्क्य, पराशर, वशिष्ठ, गौतम, बोधायन, लिखित, हारित, विष्णु, और देवल आदि । देवल स्मृति बहुत अर्वाचीन है । मुसलमानी काल की कृति है । इसमें शुद्धि और मत-परिवर्तन किये गए लोगों को पुन: वैदिक धर्म में लाने की व्यवस्था दी गई है । स्मृति को व्यवस्थापक ग्रन्थ भी कहा जा सकता है ।

सत्संग से मनुष्य जीवन कैसे बदल सकता है ?

 

  • वैदिक धर्मी

Follow:- Thanks Bharat On YouTube Channel

नमस्ते दोस्तों Vedicpress  से जुड़े रहने के लिए सभी आप सभी का साधुवाद ।  Vedicpress  आपकी रूचि को ध्यान में रखते हुए आपको इसी प्रकार अमूल्य जानकारियां प्रदान करवाता रहेगा ।    ताकि आप और हम अपने हिन्दु भाइयों को सच्चाई से अवगत करवाते रहे । vedicpress ईश्वर से आपके और आपके परिवार के लिए उन्नति और शांति की प्रार्थना करता है । ताकि आप और हम सर्वथा ऐसे ही जुड़े रहे ।

इसी उद्देश्य को सार्थक बनाने के लिए Vedicpress  आपको विशुद्ध मनुस्मृति भेंट करता है । ताकि   आप को ज्ञात हो सके की जो भी कुछ आज मनुस्मृति के खिलाफ चल रहा  है क्या वह ठीक है या इससे हमारा राष्ट्र पतन की ओर बढ़ रहा है ।

विशुद्ध मनुस्मृति (770 Pages) यहाँ से डाउनलोड करें :-  https://drive.google.com/drive/u/3/folders/1ra5M4ifoj48v9NXKLhaK8C2kyHWFr2e2

You may also like...