bhagat singh – सजा के बाद वाला पत्र || पहली प्रतिक्रिया

                                                                   भगतसिंह (Bhagat Singh) का पत्र

फांसी की सजा सुनने के बाद मुलतान जेल में बंदी अपने साथी बटुकेश्वर दत्त के नाम नवम्बर, 1930 का पत्र

                                                                                                                                                                                सेन्ट्रल जेल, लाहौर

                                                                                                                                                                                    नवम्बर, 1930

प्यारे भाई,

      मुझे दंड सुना दिया गया है और फांसी का आदेश हुआ है । इन कोठरियों में मेरे अतिरिक्त फांसी की प्रतीक्षा करने वाले बहुत-से अपराधी हैं । ये लोग यही प्रार्थना कर रहे है कि किसी तरह फांसी से बच जाएं, परन्तु उनके बीच शायद मैं ही एक ऐसा आदमी हूँ, जो बड़ी बेताबी से उस दिन की प्रतीक्षा कर रहा हूँ, जब मुझे अपने आदर्श ले लिए फांसी के फंदे पर झूलने का सौभाग्य प्राप्त होगा । आप पढ़ रहे है :- भगतसिंह bhagat singh के पत्र>>>>>>>>>>

      मैं ख़ुशी के साथ फांसी के तख्ते पर चढ़कर दुनिया को यह दिखा दूंगा कि क्रांतिकारी अपने आदर्श के लिए कितनी वीरता से बलिदान दे सकते है ।   www.vedicpress.com

      मुझे फांसी का दंड मिला है, किन्तु तुम्हे आजीवन कारावास का दंड मिला है । तुम जीवित रहोगे और तुम्हें जीवित रहकर दुनिया को यह दिखाना है कि क्रांतिकारी का अपने आदर्शों के लिए मर ही नहीं सकते बल्कि जीवित रहकर हर मुसीबत का मुकाबला भी कर सकते हैं । मृत्यु सांसारिक कठिनाई से मुक्ति प्राप्त करने का साधन नहीं बननी चाहिए, बल्कि जो क्रांतिकारी संयोगवश फांसी के फंदे से बच गए हैं, उन्हें जीवित रहकर दुनिया को यह दिखा देना चाहिए कि वे न केवल अपने आदर्शों के लिए फांसी पर चढ़ सकते हैं, बल्कि जेलों की अंधकारपूर्ण छोटी कोठरियों में घुल-घुलकर दर्जे के अत्याचारों को सहन भी कर सकते हैं । www.vedicpress.com

                                                                                                                                                                                                      तुम्हारा

                                                                                                                                                                                              भगतसिंह bhagat singh

  • वैदिक धर्मी

फांसी सुनने के बाद भी वीर बलिदानी भगतसिंह bhagat singh ने तनिक भी संकोच नहीं किया और इसकी सुचना  उपरोक्त पत्र के द्वारा अपने साथी बटुकेश्वर दत्त को उपरोक्त पत्र के माध्यम से कह सुनाई और इस कठिन घड़ी में भी अपने जोश को जाहिर किया । यह दर्शाता है की भारत की आज़ादी का दिन तो उसी दिन तय हो गया था जिस दिन वीर भगतसिंह के दादा जी ने उसे 8 वर्ष की उम्र में ही देश के लिए समर्पित कर दिया था।

 

Yutube Channel on Thanks Bharat

यह भी अवश्य पढ़े :- भगतसिंह  की bhagat singh प्रतिज्ञा>>>>>>>

 

You may also like...