Category: Religious/History

काशी

काशी प्राचीन भारत का विद्या केंद्र एवं विश्वविद्यालय

काशी से ही प्राचीन विद्या का विस्तार भारत मे वैदिक सभ्यता बहुत दिनों तक पश्चमी प्रान्तों के आबद्ध रही। पूर्वी प्रान्तों में उसके प्रसार में काफी समय लगा। अतः प्रारंभिक वैदिक साहित्य में वाराणसी का...

Pitfalls of Hinduism

Pitfalls of Hinduism by Rishi Dayananda

Losses and benefits of Hindu religion Pitfalls of Hinduism :- In the course of his extensive tours throughout the length and breadth of India, Dayanand has come into contract with Hindus of different creeds, sects...

यूरोप

यूरोप खण्ड का वैदिक अतीत जो आज भी नाम, वर्ण, पूजा आदि में पाया जाता है ?

यूरोप में वैदिक संस्कृति के प्रमाण यूरोप के भूगोल के सम्बन्ध में एक ध्यान देने योग्य बात यह है कि इस खण्ड के अन्तरगत कई देशों के नामो का अन्त्यपद “ईय” है, जिसे Russia यानी...

अमेरिका

अमेरिका खंडो में वैदिक सभ्यता के प्रमाण आज भी मौजूद है कैसे ?

अमेरिका में आज भी पाए जाते है वैदिक सभ्यता के प्रमाण पृथ्वी के गोले में हिन्दुस्थान के ठीक दूसरी तरह उत्तरी तथा दक्षिणी अमेरिका खण्ड है । कहते हैं की भारत से यदि पृथ्वीतल में...

स्त्री शिक्षा

स्त्री शिक्षा के मूल तत्व और इनकी आवश्यकता क्यों ?

सामाजिक दृष्टिकोण से स्त्री शिक्षा स्त्री शिक्षा :- हमें यह स्वीकार करना होगा कि विज्ञान और समाज चाहे जितने उन्नत हो जाएं और सामाजिक दृष्टि से स्त्रियों और पुरुषों के व्यवहार क्षेत्र तथा कार्य क्षेत्र...

कृष्णजी

कृष्णजी के विषय में महर्षि दयानन्द सरस्वती Vs भागवत

श्री कृष्णजी पर लगे मिथ्या आरोप व महर्षि दयानन्द कृष्णजी महर्षि के ह्रदय में श्री कृष्णजी के प्रति अत्यंत श्रद्धा और सम्मान का भाव विद्यमान था । वे उन्हें महाधार्मिक, महात्मा, आप्त पुरुष, धर्मात्मा, धर्मरक्षक,...

गोवध

गोवध अंग्रेजी शासनकाल से अब तक क्यों और कितना हुआ ?

अंग्रेजी शासनकाल से अब तक प्रतिवर्ष करोड़ों गायों को क्यों काटा जा रहा  ? गोवध:- मुस्लिम शासकों ने एक दो को छोड़कर प्राय: सब ही ने गोहत्या पर प्रतिबन्ध लगाया  परन्तु इस्लामी शासन की अन्य...

हिंदी बनी हिन्दुस्तानी

हिंदी भाषा कैसे हिन्दुस्तानी भाषा बनी सम्पूर्ण इतिहास

हिंदी बनी हिन्दुस्तानी (कैसे हिंदी भाषा को हिन्दुस्तानी भाषा का दर्जा मिला) हिंदी कैसे बनी हिन्दुस्तानी स्वामी दयानंद सरस्वती, वीर सावरकर, बंकिमचंद्र और तिलक से लेकर गांधी जी, राजा जी जैसे हमारे महान राष्ट्रोनन्यकों ने...

 नाथूराम गोडसे अंतिम पत्र 

नाथूराम गोडसे अंतिम पत्र अपने पिता के चरणों में

पण्डित नाथूराम गोडसे अंतिम पत्र अपने माता-पिता के चरणों में नाथूराम गोडसे अंतिम पत्र “आसिन्धु भारतवर्ष पूरी तरह से स्वतंत्र करने का मेरा ध्येय स्वप्न मेरे शरीर की मृत्यु से मारना आशाक्य है”    ...

उधम सिंह

उधम सिंह का संघर्षमयी जीवन और क्रांतिकारी परिचय

उधम सिंह एक क्रांतिकारी उधम सिंह जीवन परिचय :- महान क्रांतिकारी उधम सिंह का जन्म 26 दिसंबर 1899 को पंजाब की पटियाला रियासत के सुनाम नामक कस्बे में कम्बोज वंश में हुआ । उनमे पिता...

अशफाक़ उल्ला खां

कट्टर मुसलमान अशफाक़ उल्ला खां एक कट्टर क्रांतिकारी कैसे बना

महान क्रांतिकारी अशफाक़ उल्ला खां का आदर्श जीवन अशफाक़ उल्ला खां का जन्म 22 अक्टूबर 19,00 में उत्तरप्रदेश के शाहजहांपुर स्थित  शाहिदपुर में हुआ |उनके पिता मोहम्मद शफीक अल्ला खान था और उनकी माता का...

आर्य समाज

आर्य समाज से विश्व गुरु आर्यावर्त्त की ओर अग्रसर कैसे ?

आर्य समाज के बारे में भिन्न-भिन्न धारणाएं आर्यसमाज के विषय में आज लोगों में भिन्न-भिन्न प्रकार की भ्रान्तिया है। कुछ लोगों का मानना है की आर्यसमाज नास्तिक संगठन है जो ईश्वर को नहीं मानते । मूर्ति-पूजा ...