Tagged: शिक्षाप्रद कहानी

गुरु जी

गुरु जी और चेला साथ रहिये और साथ खाइए कहानी’

मिलकर रहिये बाँट कर खाइए गुरु जी और चेला एक चेला था । उसने अपने गुरु से पूछा-“महाराज! संसार में रहने का क्या ढंग है ?” गुरु ने कहा-“अच्छा प्रश्न किया है तूने । एक-दो...

चरित्रबल

चरित्रबल ही मनुष्य होने का सबसे बड़ा प्रमाण हैं कैसे ?

मनुष्य का चरित्रबल गुरूजी – कल हमने नेपोलियन का पाठ पढाया था, बताओ उसको कौन-सी बात आपको अच्छी लगी ? सुरेश– गुरूजी, मुझे तो नेपोलियन का यह कहना अच्छा लगा की-    “The word impossible is...